वो रात के अँधेरे में अकेली बस स्टॉप पर खड़ी थी ……. और फिर जो हुआ वो आजकल होता नहीं है :(

आजकल  बढ़ रही महिला अत्याचार के बीच ये घटना एक सुखद और नए नजरिये को प्रस्तुत करती है , हमारे समाज में अगर लोग इस तरह से बदलाव लाने की पहल करेंगे तो … कुछ तो जरूर बदलेगा

 

(Source: Pocket Films)

Add Comment